Freedom, Poetry, quotes, thoughts

एक चाहत, एक उड़ान, एक आशा..

birds
मुझे उड़ने दो।
मुझे उड़ने दो, यहाँ से बहुत दूर।

मुझे उड़ने दो, यहाँ से बहुत दूर, जहाँ कोई ना हो।

मुझे उड़ने दो, यहाँ से बहुत दूर, जहाँ कोई ना हो , जो हंसे, मेरे टूटे पंखो पर।

मुझे उड़ने दो, यहाँ से बहुत दूर, जहाँ कोई ना हो , जो हंसे, मेरे टूटे पंखो पर, और कीमत हो कोशिशों की मेरी।

क्योंकि……

इन टूटे हुए पंखो से लम्बी उड़ान, छिपी है, आशाओं में मेरी।।

13 thoughts on “एक चाहत, एक उड़ान, एक आशा..”

      1. Hahaha aap galat insaan ko pro hone ka credit de rahe hain janab. Hum b apki hi kashti mein sawar. Girte padte thoda sa hi sambhle hain WordPress pe. And don’t worry am sure if u keep writing and posting you do great here.

        From my side a warm welcome 😊

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s