feelings, Freedom, love quotes, Poetry, Swag, thoughts, without you, words

कैसे रोकूं मैं खूद को…

WP_20160427_18_56_41_Pro

अलफ़ाज़ो मे हैं कम, मेरा हाथ,

पर ख्याल हैं, बेलगाम बड़े हुए,

उतारु कैसे इन रंगीन सपनों को मेरे,

श्याही के रस्ते इस कागज़ पर ।।

…………….

अलफ़ाज़ो मे हैं कम, मेरा हाथ,

पर दिल में हैं लाखों दुनिया, बसी हुई,

बताऊँ कैसे इस नये ज़माने को, अन्दाज़ मेरा,

श्याही के रस्ते इस कागज़ पर ।।

…………….

अलफ़ाज़ो मे हैं कम, मेरा हाथ,

पर बेशरमी हैं तिनके तिनके मे, भरी हुई,

छिपाऊ कैसे इस, लिहाज के दामन को मेरे,

श्याही के रस्ते इस कागज़ पर ।।

**………**

47 thoughts on “कैसे रोकूं मैं खूद को…”

  1. अलफ़ाज़ो मे हैं कम, भले आपका हाथ,
    पर यह देख के भी हम तारीफ कम नहीं करेंगे।
    अति सुन्दर।।।।। 😊😊😊😊😊😊 😁😁😁😁😁😁😁

    Liked by 1 person

  2. बहुत सुंदर कविता !!!! कविता पढ़ कर तो नहीं लगता आपके पास शब्दों या अलफ़ाजों की कमी है। 🙂

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s